महिलाओं के शिक्षित होने से ही प्रदेश में कम हुए बाल विवाह : भदेल

अजमेर। ‘आओ साथ चलें‘ की थीम पर शुरू हुए अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस के राज्य स्तरीय कार्यक्रम का समापन रविवार को जेईसीसी के ऑडिटोरियम में हजारो...

अजमेर। ‘आओ साथ चलें‘ की थीम पर शुरू हुए अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस के राज्य स्तरीय कार्यक्रम का समापन रविवार को जेईसीसी के ऑडिटोरियम में हजारों महिलाओं की मौजूदगी और रंगारंग कार्यक्रम के साथ हुआ।

स्वास्थ्य मंत्री कालीचरण सराफ ने कहा कि महिलाएं किसी भी लिहाज से पुरुषों से कम नहीं है। उच्च शिक्षा मंत्री किरण माहेश्वरी ने इस मौके पर कहा कि बेटियां होती ही सबसे विशेष हैं। बेटियों और महिलाओं के बिना स्वस्थ समाज की कल्पना करना ही बेमानी है।

महिला एवं बाल विकास राज्य मंत्री ने कहा कि प्रदेश में महिलाएं शिक्षित हो रही हैं इसी का परिणाम है कि आज राज्य में बाल विवाह का आंकड़ा 65 प्रतिशत से 35 प्रतिशत पर आ गया। इस आंकड़े को जीरो पर लाना ही हमारे लिए सबसे बड़ी चुनौती है। उन्होंने कहा कि शिक्षा ही वह द्वार है, जो महिलाओं और समाज को कुरीतियों से दूर कर सकता है।

राज्य महिला आयोग की अध्यक्षा सुमन शर्मा ने कहा कि महिलाएं हमेशा से सशक्त रही हैं। केवल उन्हें उनकी शक्ति का अहसास कराते हुए, सम्बल देते हुए उनका आत्मविश्वास बढ़ाना है। इस अवसर पर विभाग द्वारा राजस्थान में बाल विवाह रोकथाम की रणनीति पर कार्ययोजना का भी लोकार्पण किया गया। महिला एवं बाल विकास राज्य मंत्री ने उपस्थित सभी लोगों को बाल विवाह ना करने की शपथ दिलवाई। महिलाओं से भरे हॉल में जब पार्श्व गायक रवीन्द्र उपाध्याय ने बाल विवाह मुक्त राजस्थान का सिग्नेचर सॉन्ग ‘बाल विवाह नहीं होगा अब पूरे राजस्थान में‘ गाया तो उपस्थित हुजूम ने जमकर साथ दिया।

इस अवसर पर महिला विधायक, जिला प्रमुख, उप जिला प्रमुख, नगर पालिका अध्यक्ष, प्रधान, उप प्रधान, जिला परिषद सदस्य सहित अनेक महिलाओं और छात्राओं ने भाग लिया।

इस लेख पर अपने विचार व्यक्त करें...

Related Posts

Ajmer 1388067606843939093

Watch in Video

Comments

item